What is SEO ? SEO कितने प्रकार का होता है- Complete Guide


What is SEO ? SEO कितने प्रकार का होता है-

अगर आप एक ब्लॉगर हैं या फिर अभी कुछ समय पहले ही ब्लॉग पर वर्क करना प्रारम्भ किया है तो आपने SEO (Search Engine Optimization) का नाम तो जरूर सुना होगा। SEO ब्लॉग्गिंग का एक मुख्य भाग है जिसके माध्यम से आप अपने ब्लॉग को किसी भी Search Engine में रैंक करवाते हो, SEO के माध्यम से ही आपका ब्लॉग लोगो तक पहुँच पाता है। उदाहरण के लिए :- यदि आपने गूगल पर कुछ भी सर्च किया है तो सबसे पहले उसी वेबसाइट का परिणाम आएगा जिसका SEO सबसे बेहतर होगा। 


what is SEO

आपकी वेबसाइट Search Engine में तो आने लगती है पर अगर वो पहले पेज पर नहीं है तो ऐसे में आपको कोई लाभ नहीं होगा क्योंकि अगर आपकी वेबसाइट पहले पेज पर नहीं है तो उस पर कोई reader नहीं आएगा। अगर आएंगे भी तो वो भी बहुत काम संख्या में, जो ना के बराबर होते हैं। ऐसे में SEO एक ऐसा विकल्प होता है जिसके माध्यम से आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट के परिणाम को Search Engine के पहले पेज पर ला सकते हो। 

Meaning of SEO  ?

SEO की फुल फॉर्म होती है :- Search Engine Optimization. अर्थात जो परिणाम Search Engine के अनुकूल हो। Search Engine हमेशा उसी परिणाम को पहले पेज पर स्थान देता है जो की उसके नियम और कायदों का सत्यापन करता हो। SEO के भी अपने कुछ नियम कायदे होते हैं। जो कि आपको खुद ही अपने अनुभव के माध्यम से समझने होंगे क्योंकि कोई भी Search Engine इन्हे खुल कर उजागर नहीं करता है। 

SEO कितने प्रकार का होता है what is search engine optimization

हम आपको कोई निर्धारित नियम तो नहीं बता सकते पर अपने अनुभव के माध्यम से ये अवश्य बता सकते हैं कि कुछ बड़े ब्लोग्गेर्स ने SEO को दो मुख्य भागो में विभाजित किया हुआ है। 
  • On Page SEO 
  • Off Page SEO 

ये दोनों ही भाग On Page SEO और Off Page SEO अपने आप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। SEO की मदद से ही आपकी वेबसाइट या ब्लॉग को लोगो तक पहुँचने में सहायता मिलती है। SEO के बिना आपको ब्लॉग्गिंग करना निरर्थक है क्योंकि जब तक आप SEO का प्रयोग नहीं करोगे तब तक आप जो वर्क अपने ब्लॉग पर कर रहे हो वो लोगो तक नहीं पहुँच पायेगा। चाहे आपका वर्क कितना भी अच्छा हो और आपने उस वर्क को करने में चाहे कितनी भी मेहनत की हो वो सब बेकार है। जब लोगो तक आपका वर्क पहुंचेगा तभी आप अपने ब्लॉग से कमाई कर सकते हो और तभी अपने कार्य को जारी रख सकते हो वार्ना नहीं। क्योंकि भूखे पेट तो भजन भी नहीं होता। 

SEO कैसे करते हैं ?

SEO कैसे करते हैं इस बात को समझने से पहले ये बात जरुरी थी कि SEO होता क्या है। इसलिए मैंने पहले आपको ये चीज़ बताई। इससे अगली पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की SEO करते कैसे हैं।  जिसे पढ़ने के बाद SEO से जुड़े सारे सवालों का जवाब मिल जायेगा और निश्चय ही आपको SEO से जुडी हर जानकारी मिल जाएगी।

आप अपने ब्लॉग पर चाहे जितनी भी मेहनत कर लीजिये पर अपने ब्लॉग को लोगो तक पहुँचाने के लिए उस ब्लॉग पोस्ट का SEO जरूर करना पड़ेगा। जैसा कि मैंने आपको उपर पोस्ट में बताया है कि SEO क्या होता है और ये कितने प्रकार का होता है। तो आज हम आपको SEO करने के सभी तरीके बताएँगे।

Type of SEO

On Page SEO

On Page SEO वो SEO होता है जो आपको पोस्ट लिखते वक़्त ही करना पड़ता है, जो कि मुख्य पेज पर ही होता है। उसको करने के भी बहुत सारे तरीके हैं, जो मैं आपको एक-एक करके बताने वाला हूँ।

1. Post Title:-अपने ब्लॉग पर जो पोस्ट आप लिख रहे हैं उसका टाइटल कुछ इस तरह का होना चाहिए कि वो डायरेक्ट आपके रीडर को टारगेट करे। आपके टाइटल से ही वो आपके आर्टिकल को क्लिक कर दे। तो आप अपने टाइटल को सोच समझ कर लिखे छोटा या फिर बड़ा वो आप पर निर्भर करता है। अब बात आती है कि SEO में इससे क्या फायदा होगा। फायदा ये होगा कि आपका टाइटल जितना ज्यादा मोहित होगा उस पर उतनी जल्दी लोग क्लिक करेंगे। उदहारण :- What is SEO ? SEO कितने प्रकार का होता है- Complete Guide 

2. Post Scripting:-यदि आप ब्लॉग्गिंग के क्षेत्र में नए हैं और आपको लिखने का अनुभव नहीं है तो आप लिखने से पहले अपने लेख को एक बार उसका ढांचा अपने मन में बना सकते हैंइससे आपको ये ज्ञात हो जायेगा की आपको अपने लेख में क्या-क्या समझाना है और क्या-क्या लिखना है। आपके लेख लिखने के तरीके मात्र से ही गूगल या फिर अन्य सर्च इंजन ये समझ जाता है की आपका लेख रीडर के लिए कितना फायदेमंद है और हमारे लेख को वो उसी हिसाब से रैंकिंग देता है और ये निर्धारित करता है कि आपका लेख गूगल के पहले पेज पर आएगा अथवा नहीं। तो इसलिए अपना लेख कुछ ऐसा लिखें जो रीडर को फायदा दे तभी वो उसको पढ़ेगा।

3. Use Of Keywords:-कीवर्ड आपके ब्लॉग के लिए बहुत जरुरी हिस्सा है क्योंकि कीवर्ड से ही गूगल ये पता लगता है की आपके लेख में किस चीज़ का कितना उल्लेख हुआ है और कितनी बार हुआ है। इससे भी SEO पर बहुत फर्क पड़ता है। कीवर्ड का चयन करने के लिए आप Neilpatel का प्रयोग कर सकते हैं ये वेबसाइट मुफ्त में आपको कीवर्ड छांटकर देती है। इसके अतिरिक्त आप खुद अपने अनुभव से भी कीवर्ड बना सकते हैं।

4.Length Of Post:-बहुत सारे ब्लॉगर और अनुभवी राइटर ये बताते हैं कि लम्बे लम्बे ब्लॉग पोस्ट लिखने से गूगल आपके ब्लॉग को अच्छी रैंक करता है जिससे आपके ब्लॉग पर ज्यादा ट्रैफिक आता है। उनका मानना है कि गूगल ये कहता है जितना ज्यादा लम्बा पोस्ट आप लिखेंगे उसमे उतनी ज्यादा इनफार्मेशन होगी। आप इस चीज़ को फॉलो करनी है या नहीं इसका निर्णय तो आप ही लीजिये पर हमारे अनुसार ये तथ्य बिलकुल गलत है क्योंकि हमारी बहुत सी पोस्ट जो केवल 500 शब्दों की है वो अन्य ब्लोग्गेर्स के 1500 शब्दों वाली पोस्ट से ऊपर रैंक करती है। हमारा मानना ये है की आप अपने शब्दों को जितने कम शब्दों में समझा सकते हैं समझाएँअगर आप ऐसा करते हैं तो निश्चय ही आपकी पोस्ट छोटी होगी पर रैंकिंग में सबसे ऊपर होगी।

5.Permalink:-ये आपकी पोस्ट का सबसे छोटा और जरुरी वर्क होता है अगर यह सही नहीं बनता है तो आप चाहे जितनी भी जरुरी पोस्ट लिख लें सब बेकार है क्योंकि ये एक ऐसी चीज़ होती है जो सर्च इंजन सबसे पहले देखता है। Permalink कभी भी खुद मत बनाइयेइसको बनाने के लिए आप www.ubersuggest.com का प्रयोग कर सकते हैं।

6. Description:-डिस्क्रिप्शन में आपको अपनी पोस्ट के बारे में बताना होता है कि वो किस उद्देश्य से लिखी गयी है और रीडर को इसमें क्या-क्या पढ़ने को मिलेगा। Description बनाने का सबसे अच्छा तरीका ये होता है कि सबसे पहले उसमे अपने पोस्ट का Title की कॉपी करके उसमे डाल दीजिये फिर अपने पोस्ट के बारे में लिख दीजिये और अंत में अपनी वेबसाइट का नाम डाल दीजिये। हम अपनी सभी पोस्ट का Description इसी प्रकार बनाते हैं।

7.Use Of Images:-ब्लॉग पोस्ट में हमेशा 1-3 फोटो जरूर डालियेजिससे आपका रीडर आपके ब्लॉग पोस्ट को आनंद के साथ पढ़ सके। साथ ही अगर आप अपने ब्लॉग में फोटो ऐड करेंगे तो वो और भी ज्यादा मोहित लगेगी। फोटो का प्रयोग करना SEO के लिए अत्यंत लाभकारी हैइसका कारण ये भी है कि जो फोटो आप प्रयोग करते हैं वो कुछ दिन बाद गूगल इमेजेज पर भी आ जाती हैं और उन पर क्लिक करने पर वो डायरेक्ट आपके ब्लॉग पर आ जाती हैं। 

8.Use Of Properties in Images:-जो फोटो आप प्रयोग कर रहे हैं उसमे हमेशा प्रॉपर्टीज एड कीजिये जिससे आपको आपको SEO में काफी मदद मिलेगी।  प्रॉपर्टीज में आप अपने ब्लॉग का टाइटल और ब्लॉग का नाम भी डाल सकते हैं।

9.Use Of Title in Images:-फोटो के टाइटल में आपको हमेशा ब्लॉग का टाइटल डालना है।

10.Use Compressor for Images:-फोटो हमेशा कॉपीराइट फ्री और कंप्रेस्ड होनी चाहिए। फोटो को कंप्रेस करने के लिए कंप्रेसर का प्रयोग किया जाता है। कंप्रेसर का काम फोटो के साइज को छोटा करना होता है वो भी उसकी गुणवत्ता घटाए बिना। फोटो को कंप्रेस करने के लिए आप www.compressjpeg.com नाम की वेबसाइट का प्रयोग कर सकते हैंवो भी निशुल्क।

11.Internal Linking:-इंटरनल लिंकिंग SEO के लिहाज़ से भी बहुत कारगर साबित होता है। इसका सीधा सा अर्थ ये होता है की आप अपने ब्लॉग में किसी अन्य ब्लॉग या फिर खुद के ब्लॉग का ही आर्टिकल इंटरनल लिंकिंग के माध्यम से ऐड कर सकते हैंइससे आपके ब्लॉग को SEO में मदद मिलेगी।

12.Use Given Fornts:-लिखने के जो जो अंदाज आपको ब्लॉगर या फिर वर्डप्रेस ने पहले से ही उपलब्ध किये हुए हैं मात्र उनका भी प्रयोग पोस्ट लिखते वक़्त कीजिये। क्योंकि Fornts Style बहुत मेमोरी के होते हैं जो आपके ब्लॉग पोस्ट के साइज को बढ़ाने का गलत काम करते हैं। कुछ लोग अपनी पोस्ट को वर्डपैड या फिर एम् ऐस ऑफिस में लिख कर उसको ब्लॉगर या फिर वर्डप्रेस में कॉपी कर लेते हैं। जिससे आपके पोस्ट का साइज बढ़ जाता हैजो की SEO में नुक्सान करके आपकी रैंक घटा सकता है अतः वो ही Fornts Style प्रयोग करें जो की ब्लॉगर ने पहले से दिए हुए हैं।

13.Formatting & Editing:-जब आप पोस्ट लिख लेते हैं तो उसके ऐसे ही पब्लिश नहीं करते हैं। उसको थोड़ा सा सजाया जाता है जैसे की हेडिंग्स बना कर और कुछ वर्ड्स को बोल्ड करके कुछ को अंडरलाइन करके। फिर हम उसको पब्लिश कर देते हैं।एक चीज़ का ध्यान आवश्य रखें कि ना तो आपको Formatting इतनी ज्यादा करनी है की जो रीडर को सही ना लगे और ना ही इतनी कम करनी है Formatting कहीं दिखे ही ना। 

14.Use Minimum Ads in Post:-पोस्ट में एड्स लगाते वक़्त इस चीज़ का विशेष ध्यान रखें की एड्स की मात्रा इतनी रखें की रीडर और लेख के बीच ताल मेल बना रहे और वो आसानी से आपके लेख को पढ़ सके।

15.Don't Copy Other & Write Unique Post:-ये सब चीज़ें जो मैने आपको बताई हैं इनसे आपको SEO  में आपको काफी मदद मिलेगी और फायदा भी होगा पर इन सबके बीच इस चीज़ का ध्यान रखना है कि आप कभी किसी दुसरे ब्लॉग का डाटा कॉपी न करें अपना खुद का सोचा गया और लिखा गया कंटेंट ही लोगो तक पहुंचाए। मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी बात समझ में आ गयी होगी।   


Off Page SEO

Off Page SEO वो SEO होता है जो आपको पोस्ट लिखने के बाद करना होता है, जो की पूरी तरह पेज से बाहर का काम होता है।


what is SEO
1.Backlinks:-External;-लिंकिंग को ही बैकलिंक बोलते हैं। इसके प्रयोग से आप अपने ब्लॉग को अन्य ब्लॉग के माध्यम से लोगो तक पहुंचा सकते हो। बैकलिंक बनाने का तरीका मैंने अपने ब्लॉग पर एक बार पोस्ट भी किया हुआ है आप उसको पढ़ सकते हो।

2.Social Media:-Social Media SEO;-करने के लिए बहुत ही सरल और बिना ख़र्चे वाला माध्यम है। facebook, insta, twitter आदि पर पेज बना कर आप अपने ब्लॉग को प्रमोट कर सकते हो। जिससे आपके SEO को मदद मिलेगी।

3.Reply Comments:-अगर आप अपने ब्लॉग पर आ रहे कमैंट्स का प्रॉपर जवाब दे रहे हैं तो निश्चय ही आपके ब्लॉग के SEO पर क्रांतिकारी परिवर्तन दिखेंगे।

4.Question & Answer Sites:-Quora पर आप लोगो के सवालों के जवाब दे सकते हैं और साथ ही अपनी वेबसाइट का लिंक देकर उनकी समस्या का समाधान कर सकते हैं।

5.Digital Marketing:-आप यूट्यूब पर चैनल बनाकर आप अपने ब्लॉग को प्रमोट कर सकते हैंगूगल को पैसे देकर प्लान खरीद सकते हैं उससे भी काफी मदद मिल जाती है और डिजिटल माध्यम बहुत बड़ा है आप कोई भी तरीका अपना सकते हैं।

"अगर आपको SEO के ऊपर ये पोस्ट (What is SEO ? SEO कितने प्रकार का होता है- Complete Guide)अच्छी लगी है तो आप हमे कमेंट करके बता सकते हैं। और यदि आपका कोई सवाल है तो आप वो भी पूछ सकते हैं।" 

No comments:

Post a Comment